जानलेवा गभड़िया ओवर ब्रिज पर एक और दर्दनाक हादसा

जानलेवा गभड़िया ओवर ब्रिज पर एक और दर्दनाक हादसा
सुल्तानपुर,उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले का गभड़िया ओवर ब्रिज जानलेवा होता जा रहा है। एक बार फिर बेकाबू ट्रक बारात से घर लौट रही एएनएम को रौंद दिया। इतना ही नही ड्राइवर ट्रक लेकर फरार भी हो गया। एएनएम रागिनी की मौत से नाराज भीड़ ने जिला अस्पताल में जमकर हंगामा कांटा, पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद बिगड़ी स्थिति पर काबू पाया। 
उनकी सरकारी अस्पताल में कार्यरतऔर ओम नगर निवासी रागिनी अपने पति कुलदीप तिवारी के साथ गभड़िया  स्थित एक मैरिज हाल से घर लौट रही थीं। दोनो बाइक से गभड़िया ओवर ब्रिज पार कर रहे थे। इसी दौरान ओवर ब्रिज के बीचोबीच बेकाबू ट्रक ने उन्हें टक्कर मार दी। राहगीरों के सहयोग से घायल पति और पत्नी को जिला अस्पताल भर्ती कराया  लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले लहूलुहान रागिनी तिवारी ने दम तोड़ दिया ।रागिनी का 6 वर्षीय पुत्र मां की ममता से वंचित हो गया है। 
हसनपुर में तैनात थीं मृतका
पता चला है की एएनएम रागिनी  हसनपुर में तैनात थी , खुशहाल परिवार था । हमेशा की तरह रविवार को परिचित के यहां शादी समारोह में शामिल होने के लिए पति के साथ वह बाइक से गयी थी लेकिन घर लौटते समय एक पल में परिवार पर मुसीबत का पहाड़ गिर पड़ा।
 
अमहट और बस अड्डे पर रोके गए भारी वाहन
दुर्घटना की सूचना पर पुलिस ने अमहट चौराहे पर बैरिकेटिंग लगा दी  जिससे भारी वाहनों का प्रवेश सिटी में बंद हो गया। बस अड्डा स्थित एसबीआई के सामने  भी बेरीकेटिंग लगाई गई । ऐसा इसलिए करना पड़ा क्योंकि रागिनी की मौत से नाराज़ भीड़ ने जिला अस्पताल के सामने प्रदर्शन शुरू कर दिया था। हालांकि कुछ समय बाद नाराज को पुलिस ने समझा-बुझाकर शांत करा दिया था। 
 
दलबल के साथ सीओ सिटी पहुँचे अस्पताल
इस मौके पर सीओ सिटी सतीश शुक्ला ,नगर कोतवाल कुंवर बहादुर सिंह,घंटाघर चौकी प्रभारी अमरेंद्र बहादुर सिंह, बस अड्डा चौकी इंचार्ज नियाजी हुसैन ,महिला थानाध्यक्ष मीरा कुशवाहा समेत दर्जनों पुलिस बल मौजूद रहे ।पुलिस टीम ने अस्पताल परिसर, गेट ,इमरजेंसी कछ तथा मोर्चरी पर मुस्तैद रही।इस बीच भारी वाहनों के प्रवेश को लेकर लोगों में गुस्सा फूटा।
 
*बीते साल भी गयी थी जान 
बताते चलें कि  बीते साल भी ऐसी ही घटना हुई थी। तब लोगों के आक्रोश पर  भारी वाहनों का प्रवेश  रात्रि 11:00 बजे के बाद होने लगा था लेकिन इस बीच मामला ठंडा पड़ गया था और 11:00 बजे से पहले ही भारी वाहनों को शहर में प्रवेश होने लगा।
 
जताई जा रही थी घटना की आशंका
उबड़ खाबड़ ओवर ब्रिज पर दुर्घटना की आशंका हमेशा बनी रहती है इसे लेकर अक्सर खबरें भी  प्रसारित होती है लेकिन लापरवाही के चलते मरम्मत का काम नही हो सका है। बीते लखनऊ नाका निवासी साल प्रॉपर्टी डीलर पिंटू अग्रहरि की पत्नी की भी मौत इसी स्थान पर हुई थी।तब पिंटू की पत्नी वैवाहिक समारोह में पति संग बाइक से जा रही थी।उस समय उनकी पत्नी ट्रक की चपेट में आ गई थी ।