पदाधिकारी ने कांग्रेस पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए दिया इस्तीफा

पदाधिकारी ने कांग्रेस पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए दिया इस्तीफा

अयोध्या। कांग्रेस पार्टी के महानगर अध्यक्ष रहे करण त्रिपाठी ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने पार्टी पर वरिष्ठ कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की उपेक्षा का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस में रहकर घुटन महसूस हो रही थी। कांग्रेस के अयोध्या महानगर अध्यक्ष करण त्रिपाठी ने कहा है कि अब कांग्रेस इंदिरा गांधी और राजीव गांधी वाली पार्टी नहीं रही है। यह पार्टी देश में अपना जनाधार खो चुकी है। उन्होंने कहा है कि पिछले 4 साल से पार्टी का जनाधार बढ़ाने के लिए और लोगों में विश्वास बढ़ाने के लिए काम कर रहा था, लेकिन उपेक्षा के चलते पार्टी में अब घुटन महसूस हो रही थी.

पार्टी में कुछ लोग ऐसे हैं जो देश के लिए जनता के लिए काम न करके स्वयं के लिए काम कर रहे हैं. ऐसे लोग पार्टी को बर्बाद करने का काम कर रहे हैं. करण त्रिपाठी ने कहा कि कांग्रेस को पिछले कई वर्षों से मैं मानता रहा हूं उसकी विचारधारा से अवगत हूं लेकिन पार्टी अपनी विचारधारा के अनुरूप आचरण नहीं कर पा रही है, जिसके चलते वरिष्ठ नेताओं को उपेक्षा का दंश झेलना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कुछ दिन पहले बृजेश सिंह चौहान ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

 

करन त्रिपाठी ने कहा है कि पार्टी में कार्यकर्ता नहीं है. सारे लोग नेता बनने का प्रयास कर रहे हैं।कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष रहे करन त्रिपाठी ने आरोप लगाया है कि युवाओं को कांग्रेस सिर्फ नारा लगाने के लिए यूज कर रही है. पार्टी में नए कार्यकर्ताओं का महल शोषण किया जा रहा है. करन त्रिपाठी ने कहा कि इन सब बातों के चलते मैं अपने सहयोगी के साथ इस्तीफा दे रहा हूं।