प्रेम प्रसंग मामले में बढ़ा पुलिस का प्रेशर, प्रेमी के इस पत्र से फंस गई खाकी

प्रेम प्रसंग मामले में बढ़ा पुलिस का प्रेशर, प्रेमी के इस पत्र से फंस गई खाकी
मऊ। मोहम्मदाबाद गोहाना कोतवाली क्षेत्र सलेमपुर गांव में रामनयन मौर्या के 19 वर्षीय बेटे अभिषेक मौर्या ने आत्महत्या कर ली। आत्महत्या की खबर से पूरे सलेमपुर गांव के लोग सकते में आ गए। गांव वालों ने अभिषेक की आत्महत्या की खबर पुलिस को दिया। सूचना पाकर घटनास्थल पर पहुँची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय के मर्चरी हाउस भिजवा दिया। वही बेटे की आत्महत्या करने से परिवार वालों का रो-रो कर हाल गंभीर हो गया। 
 
बता दें कि अभिषेक मौर्या की आत्महत्या के पीछे की पूरी कहानी है स्थानीय कोतवाली क्षेत्र के शिया बस्ती की रहने वाली एक लड़की से प्रेम करने का आरोप था। और वही लड़की घर छोड़कर भाग गई। 
 
लड़की के घर से भागने पर उसके परिजनों ने अभिषेक मौर्य पर लड़की भगाने का आरोप लगाते हुए दो महीने पहले मुकदमा दर्ज करवा दिया। हालांकि मुकदमा दर्ज होते ही अभिषेक ने हाई कोर्ट से स्टे ले लिए। स्टे होते ही अभिषेक की गिरफ्तारी पर रोक लग गया। लेकिन कोतवाली क्षेत्र के सिपाह पुलिस चौकी इंचार्ज लाल सिंह लगातार दबाव दे रहे कि लड़की को जल्द से जल्द बरामद हो। इसके लिए आरोपी अभिषेक मौर्य पर दबाव देने का काम कर रहे थे। जिससे परेशान होकर आज अभिषेक ने आत्महत्या कर लिया। परिजनों ने चौकी इंचार्ज और तीन सिपाहियों पर प्रताड़ना का पर आरोप लगाते हुए लड़की के परिजनों पर तहरीर देते मुकदमा दर्ज कराने का काम किया है। 
 
मृतक अभिषेक मौर्या के पिता रामनयन मौर्या ने कहा कि उसके बेटे पर गलत तरीके से जबरदस्ती लड़की भगाने का आरोप लगाया गया था। जिस पर मुकदमा भी दर्ज हुआ था। चौकी इंचार्ज लगातार धमकी दे रहा था। साथ ही लड़की के परिजन भी जान से मारने की धमकी दे रहे थे। जिसकी वजह से परेशान मेरे बेटे ने आत्महत्या कर लिया। 
 
पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्या ने बताया कि मोहम्मदाबाद कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले अभिषेक मौर्य के आत्महत्या करने की सूचना पुलिस को मिली। जिस पुलिस वहां मौके पर पहुची तो पता चला कि अभिषेक पर आईपीसी की धारा 363, 366 के मुकदमे में मुख्य अभियुक्त थे। और ये बेल पर थे। इनके परिजनों के द्वारा एक तहरीर दी गई जिनके आधार पर चौकी इंचार्ज और तीन पुलिस कर्मियों समेत लड़की के परिवार वालों पर धारा 306 के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। जिसकी विवेचना की जा रही है।